Friday, March 31, 2023

‘पहले डॉक्टर की दवा फिर मां की दुवा’ यहां आई मोगल खुद देती है पर्चा..

गुजरात का एक ऐसा मंदिर जहां शीश झुकाकर मिलता है आशीर्वाद। माता बरसों पुराने रोग को दूर करती है। जहां दान-दक्षिणा स्वीकार नहीं की जाती। कच्छ के कबरौ में बैठे मुगल पैसे के नहीं भक्तों के मान के भूखे हैं।

गुजरात में देवी-देवताओं के कई मंदिर हैं। इन मंदिरों में अक्सर देवी-देवता चमत्कार करते हैं। लेकिन कहा जाता है कि अगर आपके पास विश्वास है तो ही आपका काम पूरा होगा। भगवान पर भरोसा बहुत जरूरी है। सच्चे मन से किया गया स्मरण एक दिन अवश्य फल देता है। कबरौ आने वाले भक्तों का माताजी में अटूट विश्वास होता है। बिराजमान मां कच्छ के कबरू में मौजूद हैं। भक्तों को प्रामाणिक पैम्फलेट भी दिए जाते हैं।

यह शानदार, अविस्मरणीय, रहस्य से भरा और दिलचस्प कहानियों से जुड़ा, ऐ मोगुल का यह निवास कबरौ, कच्छ में स्थित है। कबरू मुगल धाम भचाऊ से 16 किमी की दूरी पर स्थित है। जैसे ही आप सड़क से गुजरते हैं, आप दूर से ही मां की धजा और मां को लाल रंग में लिखा हुआ देख सकते हैं। बरगद के नीचे मां विराजमान होने के कारण मुगल को बरगद कहा जाता है। इसीलिए मां के नाम के साथ वडवली मोगुल जुड़ा है।

माताजी ने यहां अपने होने का प्रमाण दिया है। वहां मां ने बच्चे को घोड़ी से बांध रखा है, जिसका सबूत यहां की दीवार पर छोटे-छोटे कीड़ों की तस्वीरें हैं। एक-एक फोटो मां की कृपा सिद्ध करती है कि मां ने कितनों को गोद दी है और कइयों के घर में बेटी के रूप में दिया जलाया है। IA ने कई लोगों को गंभीर बीमारियों से बचाया है।

बापू अंधविश्वास का पुरजोर विरोध करते हैं। बापू ने अंधविश्वास की राह पर चल पड़े लोगों का मार्गदर्शन किया है और धर्म और आस्था का मार्ग भी सुझाया है। तो बापू ने News18 गुजराती से बात करते हुए बलिदान की सलाह देने वाले पखदियों और धूर्तों पर प्रहार किया और कहा कि अगर उन्होंने कभी त्याग की बात नहीं की तो वह हमारे दूर के गुणों का त्याग कर रहे हैं.

यहां लगे अलग-अलग पोस्टरों से पता चलता है कि मां का सम्मान कीजिए लेकिन अंधविश्वासी बिल्कुल मत बनिए। इसलिए लिखा है कि पहले डॉक्टर की दवा फिर दुआ। पिता जीवन में अच्छे काम करने की सलाह देते हैं।

Related Articles

Stay Connected

258,647FansLike
156,348FollowersFollow
56,321SubscribersSubscribe

Latest Articles