सोने चांदी की कीमत: सोने की वायदा कीमत में हुवा गिरावट, ६८००० रुपये प्रति किलो हुआ चांदी का दाम

0
298

विस्तार

आज घरेलू बाजार में सोने और चांदी की वायदा कीमत में गिरावट आई। एमसीएक्स पर सोना वायदा ४८०७६ रुपये प्रति १० ग्राम पर पहुंच गया। पिछले सत्र में सोना ४०० रुपये लुढ़का था। चांदी की बात करें, तो यह ०.४ फीसदी नीचे ६८००० रुपये प्रति किलोग्राम पर रही। पीली धातु पिछले साल के उच्चतम स्तर (५६२०० रुपये प्रति १० ग्राम) से करीब आठ हजार रुपये नीचे है।

वैश्विक बाजार में इतनी है कीमत

वैश्विक बाजारों में आज सोने की कीमतें सपाट थीं। कोरोना के डेल्टा संस्करण में वृद्धि वैश्विक आर्थिक सुधार को नुकसान पहुंचा सकती है। शुक्रवार को करीब एक फीसदी गिरने के बाद आज हाजिर सोना १,८१२.८३ डॉलर प्रति औंस पर रहा। अन्य कीमती धातुओं में चांदी ०.६ फीसदी गिरकर २५.५० डॉलर प्रति औंस पर थी और प्लैटिनम ०.२ फीसदी गिरकर ११००.५५ डॉलर पर पहुंच गया। अमेरिकी डॉलर तीन महीने के उच्च स्तर के करीब पहुंच गया। राजनीतिक और वित्तीय अनिश्चितता के समय में सोने को एक सुरक्षित निवेश के रूप में देखा जाता है। विश्लेषकों का कहना है कि उच्च मुद्रास्फीति से कीमती धातु को फायदा हुआ है क्योंकि मुद्रास्फीति के खिलाफ बचाव के रूप में इसकी सुरक्षित आश्रय अपील बढ़ी है।

सोने की कीमत पर आधारित होते हैं गोल्ड ईटीएफ

दुनिया की सबसे बड़ी गोल्ड समर्थित एक्सचेंज ट्रेडेड फंड या गोल्ड ईटीएफ, एसपीडीआर गोल्ड ट्रस्ट की होल्डिंग्स शुक्रवार को ०.६ फीसदी गिरकर करीब दो माह के निचले स्तर १,०२८.५५ टन हो गई। स्वर्ण ईटीएफ सोने की कीमत पर आधारित होते हैं और उसके दाम में आने वाली घट-बढ़ पर ही इसका दाम भी घटता बढ़ता है। मालूम हो कि ईटीएफ का प्रवाह सोने में कमजोर निवेशक रुचि को दर्शाता है। एक मजबूत डॉलर अन्य मुद्राओं के धारकों के लिए सोने को अधिक महंगा बनाता है।

जून तिमाही में गोल्ड ईटीएफ में १३२८ करोड़ का निवेश

निवेशकों ने गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेट कोषों (ईटीएफ) में जून २०२१ को समाप्त तिमाही में १,३२८ करोड़ रुपये का निवेश किया है। विशेषज्ञों का मानना है कि चालू वित्त वर्ष के शेष महीनों में निवेश का यह प्रवाह जारी रहेगी। इस साल जून की तिमाही में अर्थव्यवस्था में सुधार की उम्मीद के बीच निवेश का प्रवाह कुछ कम रहा है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों से यह जानकारी मिली। पिछले साल समान तिमाही में गोल्ड ईटीएफ में निवेश का आंकड़ा २,०४० करोड़ रुपये रहा था। निवेश का प्रवाह घटने के बावजूद गोल्ड ईटीएफ के प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियां (एयूएम) जून, २०२१ के अंत तक बढ़कर १६,२२५ करोड़ रुपये पर पहुंच गईं। जून, २०२० के अंत तक एयूएम १०,८५७ करोड़ रुपये रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here