चमेली चावल के ५ स्वास्थ्य लाभ जिनके बारे में आपको जानना आवश्यक है

0
242

१.चमेली के चावल में एक सुंदर सुगंध होती है

चमेली चावल चावल की सुगंधित किस्म को संदर्भित करता है जिसमें लंबे दाने होते हैं। इन अनाजों में सुगंध मौजूद होती है क्योंकि चावल का पौधा प्राकृतिक यौगिकों का उत्पादन करता है जो सुगंधित और सुगंध वाले होते हैं। २-एसिटाइल-१-प्यूरोलिन नामक सबसे महत्वपूर्ण सुगंध यौगिक मौजूद है। चमेली चावल का उत्पादन ज्यादातर थाईलैंड, कंबोडिया और वियतनाम में देखा जाता है। पकने पर चावल चिपचिपे और थोड़े मीठे स्वाद के होते हैं। चमेली चावल आमतौर पर उबले हुए या उबले हुए खाए जाते हैं क्योंकि यह तलने के लिए उपयुक्त नहीं है क्योंकि यह चिपचिपा और गीला हो सकता है। उबले हुए चमेली चावल करी और मांस के साथ बहुत अच्छे लगते हैं। चमेली चावल थाईलैंड में काफी लोकप्रिय है और चावल के सबसे अधिक खपत वाले प्रकारों में से एक है। अन्य चावलों की तरह, चमेली के चावल भी मध्यम मात्रा में कैलोरी में उच्च होते हैं, लेकिन इसके बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ भी होते हैं।

२.ऊर्जा और वजन बढ़ाने में आपकी मदद कर सकता है

आहार के लिए जहां आपको वजन बढ़ाने या खुद को थोक करने की आवश्यकता होती है, चमेली चावल आपको पालने में मदद कर सकता है। यदि आप कार्ब-लोड करना चाहते हैं या तत्काल ऊर्जा के तरीकों की तलाश कर रहे हैं, तो चमेली चावल की एक सर्विंग आपको ऐसा करने में मदद कर सकती है। एक कप पके हुए चमेली चावल में लगभग १८० कैलोरी हो सकती है। चावल में मौजूद स्टार्च ईंधन में टूट जाएगा जो आपके शरीर को ऊर्जा और शक्ति प्रदान करेगा। जो लोग वजन बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं वे चमेली चावल का सेवन कर सकते हैं क्योंकि कैलोरी की संख्या स्वस्थ वजन बढ़ाने के लिए परिणाम लाने में सक्षम हो सकती है।

https://newslable.com/wp-content/uploads/2021/07/10-1-18.jpg

३.एक खुश गर्भावस्था लो!

चमेली चावल में फोलिक एसिड होता है, जो फोलेट (विटामिन बी ९) का सिंथेटिक रूप है। गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड का सेवन महत्वपूर्ण है क्योंकि यह बच्चे के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। गर्भावस्था की अवधि से पहले फोलिक एसिड का सेवन जन्म दोषों जैसे कि तंत्रिका ट्यूब दोष जो मस्तिष्क या रीढ़ में दोष हैं, को रोक सकता है। मां के शरीर में अच्छी मात्रा में फोलिक एसिड बढ़ते बच्चे के दिल और रक्त वाहिकाओं के उचित विकास में मदद कर सकता है। उपरोक्त सभी बिंदुओं के निष्कर्ष के रूप में, गर्भावस्था के दौरान फोलिक एसिड के सेवन के लिए चमेली चावल एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

४.उच्च लौह स्तर

आयरन हमारी प्रतिरक्षा के निर्माण के लिए आवश्यक एक महत्वपूर्ण घटक है और यह कोशिकाओं को ऊर्जा उत्पन्न करने और हमारे ऊतकों को ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में भी मदद करता है। चमेली चावल आयरन से भरपूर होता है और हमारे शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में मदद कर सकता है। आयरन की कमी से एनीमिया हो सकता है, एक ऐसी स्थिति जिसमें आपको थकान, सिरदर्द, तेज हृदय गति और सांस लेने में तकलीफ आदि लक्षण हो सकते हैं। स्वस्थ बालों, त्वचा और नाखूनों के लिए आयरन भी मददगार हो सकता है। चमेली चावल महिलाओं को आयरन का उच्च स्तर प्राप्त करने में मदद कर सकता है क्योंकि मासिक धर्म के दौरान महिलाओं में आयरन की कमी हो जाती है।

५.फाइबर सामग्री में उच्च

ब्राउन चमेली चावल अघुलनशील फाइबर में उच्च है और इस प्रकार, हमारे पाचन तंत्र को बनाए रखने में मदद करता है। अन्य चावल की किस्मों की तुलना में ब्राउन चमेली चावल कम संसाधित होता है और इसमें कई पोषक तत्व बरकरार रहते हैं। चमेली चावल की यह किस्म हमें पूर्ण रखने और हमें अधिक खाने से रोकने में मदद कर सकती है। यह कब्ज की समस्या से भी निजात दिलाने में हमारी मदद कर सकता है। चमेली चावल में मौजूद फाइबर हमारे मल को नरम बनाने में मदद कर सकता है और हमारे शरीर में भोजन के मार्ग को धीमा करके हमारे शरीर को भोजन से पोषक तत्वों को अवशोषित करने में मदद करता है।

६.अन्य स्वास्थ्य लाभ

चमेली चावल में एक यौगिक होता है जिसे ‘फाइटोन्यूट्रिएंट्स’ के रूप में जाना जाता है जो हमारे शरीर में कोशिकाओं की रक्षा करता है और हमारी प्रतिरक्षा में सुधार करता है। मैंगनीज में उच्च, चमेली चावल हमें एक खनिज प्रदान करता है जो हमारे शरीर के स्वस्थ कामकाज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। चावल की यह किस्म एथलीटों या ऐसे व्यायाम करने वाले लोगों के आहार में शामिल होने के लिए एक अच्छा भोजन विकल्प बन सकता है जिसमें हमें धीरज की आवश्यकता होती है। सफेद और भूरे रंग के चमेली चावल हमारी मांसपेशियों में ग्लाइकोजन को बढ़ावा दे सकते हैं, जो चिकनी और उच्च तीव्रता वाले वर्कआउट के लिए आवश्यक है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here