Thursday, November 30, 2023

जवान महिलाओं के लिए जरूरी विटामिन और मिनरल, डाइट से नहीं मिल पाते पर्याप्त विटामिन..

Multivitamin and Supplements for Women: महिलाओं को कुछ विटामिन और मिनरल्स की कमी नहीं होने देनी चाहिए। मगर ये पोषक तत्व डाइट से पर्याप्त मात्रा में नहीं मिल पाते हैं, जिस वजह से मल्टीविटामिन और सप्लीमेंट की जरूरत पड़ती है।

Health Tips on International Women’s Day: किशोरावस्था से जवानी तक महिलाएं अलग-अलग भूमिकाएं निभाती हैं। इस दौरान संतुलित आहार और जरूरी पोषण नजरअंदाज होने की काफी आशंका होती है। इन महत्वपूर्ण बिंदुओं को अनदेखा करने से बाद में कई लंबी बीमारी घेर सकती हैं। इसलिए मल्टीविटामिन और सप्लीमेंट के जरिए पोषण लेना जरूरी हो जाता है, जिससे जिम्मेदारियों के बाद भी सेहत सही रहे।

Blackmores के कंट्री मैनेजर पुनीत सूद के अनुसार, संतुलित आहार के साथ महिलाओं के लिए कुछ विटामिन और मिनरल बहुत जरूरी होते हैं। मगर ये डाइट-फूड में काफी कम मात्रा में पाए जाते हैं, जिससे रोजाना की भागदौड़ में इनके छूटने का डर बना रहता है। इसलिए महिलाएं इनका लेवल बनाए रखने के लिए डॉक्टर की सलाह के बाद मल्टीविटामिन और सप्लीमेंट का सेवन शुरू कर सकती हैं।

आयरन: शरीर में आयरन कई काम के लिए जरूरी होता है। इस पोषक तत्व की कमी लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को कम कर सकती है और एनीमिया पैदा कर सकती है। जानवरों का लिवर, मांस, और गहरे हरे रंग की पत्तेदार सब्जियां और अन्य खाद्य स्रोत में भरपूर आयरन होता है, लेकिन उन महिलाओं को इसके सप्लीमेंट की जरूरत पड़ सकती है, जो पहले से ही खून की कमी या गर्भावस्था से गुजर रही हैं।

कैल्शियम: कैल्शियम हड्डियों और दांतों के स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। महिलाओं में बढ़ती उम्र के साथ भी हड्डियों की मजबूती के लिए कैल्शियम आवश्यक होता है। एक जवान महिला को रोजाना 2 गिलास दूध पीने की जरूरत होती है, मगर भागदौड़ में डाइट से पर्याप्त कैल्शियम लेना मिस हो जाता है। कैल्शियम सप्लीमेंट की एक गोली से शरीर के लिए जरूरी 500mg कैल्शियम मिल जाता है।

विटामिन डी: जिन महिलाओं को पर्याप्त विटामिन डी3 नहीं मिलता है, उन्हें इसे कैप्सूल के रूप में सेवन करने की सलाह दी जाती है। इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखने, हड्डियों और मसल्स की ताकत और कैल्शियम के इस्तेमाल के लिए विटामिन डी3 जरूरी होता है। मगर पर्याप्त धूप होने के बावजूद भारतीयों में इसकी कमी देखी जाती है, जिसके पीछे डाइट से इसका ना मिल पाना मुख्य वजह है। इसलिए विटामिन डी3 सप्लीमेंट से इस कमी को पूरा किया जा सकता है।

कलौंजी का तेल: कलौंजी का तेल काफी फायदेमंद है और ओमेगा फैटी एसिड का नैचुरल सोर्स है। यह परंपरागत रूप से पाचन को बेहतर बनाने, खांसी और जुकाम से राहत देने और सूजन कम करने के लिए उपयोग किया जाता रहा है। इसे स्किन ब्रेकआउट के लिए भी त्वचा पर लगाया जाता है। इसे लेने का बेहतर तरीका सप्लीमेंट के रूप में है। क्योंकि, इनमें कलौंजी के तेल में मौजूद थाइमोक्विनोन और ओमेगा फैटी एसिड के लेवल को विशेष रूप से बढ़ाया जाता है।

फिश ऑयल: यह उन वयस्क महिलाओं के लिए एक जरूरी सप्लीमेंट है, जो प्रत्येक हफ्ते गहरे समुद्र की मछली नहीं खा पाती हैं या शाकाहारी हैं। दिल, दिमाग, आंख, नर्वस सिस्टम और स्किन हेल्थ के लिए ओमेगा-3 की मदद बहुत जरूरी है। जिससे शारीरिक विकास और स्वास्थ्य बना रहे। ओमेगा-3 फैटी एसिड के अच्छे अवशोषण से बने फिश ऑयल सप्लीमेंट का सेवन करने की सलाह दी जाती है।

फोलेट: नई सेल्स और टिश्यू के निर्माण के लिए यह वॉटर सॉल्यूबल विटामिन बी जरूरी होता है। यह पोषक तत्व रेड ब्लड सेल्स के उत्पादन और दिमागी कामकाज में भी मदद करता है। इसे लेने से भ्रूण में होने वाली न्यूरल ट्यूब की असामान्यता से बचा जा सकता है। इसलिए महिलाओं को रोजाना 400mcg फोलेट लेना जरूरी माना जाता है, जो कि प्रेगनेंसी में बढ़ जाता है।

ल्यूटिन, जेक्सैंथिन और Q10 (CoQ10): ल्यूटिन और जेक्सैंथिन जहां महिलाओं के लिए जरूरी एंटीऑक्सीडेंट हैं, वहीं Q10 (CoQ10) एक एंटीऑक्सीडेंट एंजाइम है। ल्यूटिन और जेक्सैंथिन आंखों के फंक्शन और स्वास्थ्य के लिए जरूरी होते हैं और Q10 (CoQ10) को दिल के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। इन्हें पर्याप्त मात्रा में खाने से पाना थोड़ा मुश्किल होता है, इसलिए एक्सपर्ट इनका सप्लीमेंट लेने की सलाह देते हैं।

Related Articles

Stay Connected

258,647FansLike
156,348FollowersFollow
56,321SubscribersSubscribe

Latest Articles